ब्रेकिंग न्यूज़  
  • लालू प्रसाद की मुश्किलें बढ़ी,CBI की याचिका पर 28 फरवरी से SC में होगी सुनवायी

    पटना. चारा घोटाला मामले में राजद प्रमुख लालू प्रसाद और जगन्नाथ मिश्रा की परेशानी बढ़ गयी है। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की याचिका को स्वीकार कर लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने 28 फरवरी से इस मामले की सुनवायी करेगी। कोर्ट ने कहा है कि इस मामले को एक सप्ताह में निपटा दिया जायेगा। कोर्ट ने जगन्नाथ मिश्रा को लगया था फटकार...

     

    - चारा घोटाले से जुड़े चार लंबित मामलों को झारखंड हाई कोर्ट से खारिज कर दिया था।
    - सीबीआई ने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने वाली एक अपील किया था।
    - सीबीआई की अपील को लंबा खींचने और इसमें विलंब करने के लिये सुप्रीम कोर्ट ने जगन्नाथ मिश्रा को फटकार भी लगयी थी।
    -न्यायमूर्ति जे एस खेहड, न्यायमूर्ति ए के मिश्रा और न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने मिश्रा की ओर से अपनाई गई तरकीबों की निंदा किया था।
    - कोर्ट मिश्रा के व्यवहार को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। 
    -कोर्ट ने इसे अदालत से छल करने के समान भी करार दिया था। 
    - कोर्ट ने मिश्रा को कहा था कि हम आपके आचरण की निंदा करता हूं।
    - आप जानबूझकर कार्यवाही में देरी कर रहे हैं।
    - यह एक बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। 
    - यह अदालत के साथ छल करने जैसा है।
    - सीबीआई ने झारखंड उच्च न्यायालय के 2014 फैसले को चुनौती दी है।
    - इस फैसले में अदालत ने मिश्रा के खिलाफ दर्ज चारा घोटाले से संबंधित मामलों को इस आधार पर निरस्त कर दिया गया था कि एक मामले में दोषी करार दिए गए व्यक्ति पर समान मामलों में समान गवाहों और सबूतों के आधार पर और मुकदमा नहीं चलाया जा सकता।

     

    - आप जानबूझकर कार्यवाही में देरी कर रहे हैं।
    - यह एक बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। 
    - यह अदालत के साथ छल करने जैसा है।
    - सीबीआई ने झारखंड उच्च न्यायालय के 2014 फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।
  • झारखंड - एक करोड़ के इनामी नक्सली कर सकते हैं सरेंडर

    जमशेदपुर.झारखंड व पश्चिम बंगाल सीमावर्ती क्षेत्र में आतंक राज कायम करने वाले एक करोड़ का इनामी नक्सली असीम मंडल उर्फ आकाश उर्फ राकेश और मदन महतो सरेंडर कर सकते हैं। पूर्वी सिंहभूम जिला पुलिस अब उन्हें घेरने में लगी है। आकाश पश्चिम बंगाल स्टेट कमेटी का सचिव है और मदन माओवादियों के बेलपहाड़ी दस्ता का प्रमुख है।

     

    झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओड़िशा बॉर्डर कमेटी के सचिव कान्हू मुंडा व उसके सात साथी, राहुल व पत्नी झरना पाल के सरेंडर करने, गुड़ाबांधा दस्ते के सुपाई टुडू के मारे जाने अौर सुपाई की पत्नी गुरुवारी की गिरफ्तारी के बाद पूर्वी सिंहभूम जिले में माओवादी कमजोर पड़ चुके हैं। इधर, रामप्रसाद मांडी उर्फ सचिन व उसकी पत्नी मीता ने खुद को बंगाल पुलिस के हवाले कर दिया है। बंगाल पुलिस सोमवार को उन्हें सरेंडर कराने वाली है। ऐसे में संगठन की बुनियाद हिल चुकी है। लिहाजा, जिला पुलिस जल्द से जल्द अन्य माआेवादियों को गिरफ्तार या सरेंडर कराना चाहती है।
     
    जानकारों के मुताबिक आकाश का दस्ता इन दिनों नीमडीह के आसपास बंगाल सीमा पर पहाड़ी को ठिकाना बनाया हुआ है। उसके दस्ते में सात महिलाओं सहित 15 सदस्य हैं। मदन महतो भी श्यामसंुदरपुर थाना क्षेत्र के बेलपहाड़ी इलाके में ठिकाना बदलता फिर रहा है। पुलिस कान्हू और सरेंडर कर चुके उसके साथियों के जरिये आकाश, मदन और अन्य नक्सलियों से संपर्क साध रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक दोनों सरेंडर कर सकते हैं। एसएसपी अनूप टी मैथ्यू के अनुसार पुलिस पूर्वी सिंहभूम जिले को नक्सलमुक्त बनाना चाहती है। पुलिस का प्रयास है कि हिंसा की राह पर चल रहे युवक समाज की मुख्यधारा में लाैट आएं। वे खुद सरेंडर कर दें तो बेहतर, वर्ना पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। पुलिस उनकी गिरफ्तारी का भी प्रयास कर रही है।
     
    पद के लिए राहुल ने दस्ते को छोड़ा आकाश के समर्पण की उम्मीद
    जानकाराें के मुताबिक संगठन में राहुल की महत्वाकांक्षाएं बढ़ने लगी थी। वह पश्चिम बंगाल स्टेट कमेटी का सचिव या बड़ा पद हासिल करना चाहता था। इस बीच संगठन में आकाश काे बंगाल की जिम्मेदारी मिल गई। इससे राहुल खफा था। वह आकाश दस्ते से कटने लगा था। संगठन के अंदर खींचतान मची थी। आकाश को भी राहुल की गतिविधियां पसंद नहीं थी। इस बीच मुठभेड़ में राहुल घायल हो गया था। बाद में नक्सली सुपाई टुडू मारा गया। उसकी पत्नी गुरुवारी टुडू गिरफ्तार कर ली गई। सारे घटनाक्रमों से राहुल ने पत्नी के साथ आत्मसमर्पण का रास्ता चुना। राहुल के बाद सचिन ने भी संगठन को बाय-बाय कर दिया। ऐसे में उसके पास दो ही रास्ते हैं, वह संगठन का विस्तार करे या सरेंडर करे। संगठन विस्तार करने के लिए धन की आवश्यकता है। नोटबंदी के बाद संगठन कंगाल हो चुका है। जंगलों में छिपाकर रखे गए 500 व 1000 के पुराने नोट काम के नहीं रहे और लेवी वसूलकर संगठन के लिए धन संग्रह करने वाले सदस्य भी साथ नहीं रहे। ऐसे में आकाश के पास दूसरा विकल्प नहीं है। राहुल और सचिन ने बंगाल में खुद को पुलिस के हवाले किया है। आकाश को संदेश मिल चुका है कि राहुल उसे मरवाने की फिराक में है। आकाश झारखंड में ही सरेंडर करने की फिराक में है।
     
    राहुल के दबाव पर सचिन ने पत्नी के साथ खुद को किया पुलिस के हवाले
    रंजीत पाल उर्फ राहुल और सचिन आपस में रिश्तेदार हैं। राहुल की पत्नी झरना पाल व सचिन की पत्नी मीता सगी बहनें हैं। पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम निवासी झरना तीन बहनें हैं। बड़ी बहन कविता भी नक्सली है और एमजीएम थाना पुलिस उसे गिरफ्तार कर चुकी है। पत्नी के कहने पर राहुल ने पश्चिम बंगाल जाकर कोलकाता में सरेंडर किया था। उसके समर्पण के बाद से माना जा रहा था सचिन भी सरेंडर करेगा। झरना अपनी बहन मीता पर दबाव डाल रही थी तो राहुल भी सचिन के संपर्क में था। उनके प्रयासों से ही पूर्वी सिंहभूम जिले के पटमदा निवासी सचिन और उसकी पत्नी मीता ने खुद को बंगाल पुलिस के हवाले कर दिया। बंगाल पुलिस वाहन लेकर झारखंड की सीमा में घुसी, दोनों को बैठाकर निकल गई।
     
    राहुल व सचिन के हटने से कमजोर पड़ा आकाश
    पहले राहुल और अब सचिन के संगठन छोड़ने से आकाश कमजोर पड़ चुका है। संगठन की मारक क्षमता खत्म हो चुकी है। राहुल आैर सचिन संगठन के दो मजबूत आधार थे। सनातन मांडी और पानसरी मांडी के बेटे सचिन ने 2002 में हथियार उठाया था। झामुमो सांसद सुनील महतो हत्याकांड हो या अन्य घटना, दोनों ने जिला पुलिस के नाक में दम कर रखा था।
     
    सांसद हत्याकांड का राज उगलवाएगी पुलिस

     

    जिला पुलिस राहुल को जल्द ही रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। जानकारों के मुताबिक, जमशेदपुर सांसद सुनील महतो हत्याकांड में राहुल मुख्य आरोपी है। इसके अलावा उसने जिला में कई कांडों को अंजाम दिया है। पुलिस रिमांड पर लेकर सारे राज उगलवाएगी।
  • बिहार: स्कूल गेट पर उतरवाई पैंट, फिर ऐसे की गई स्टूडेंट्स की तलाशी

    पटना. लाइन में खड़ा हर छात्र अपनी बारी आने का इंतजार कर रहा है। उसे डर है कि कहीं सबके सामने पैंट न खोलना पड़ जाए। इंट्री गेट के सामने खड़े लोग हर छात्र कड़ी जांच हो रही है। पहले पॉकेट चेक करते हैं फिर शरीर को टटोलते हैं। अगर कोई जूते पहने दिख जाए तो उसे उतरवाकर जांचा जाता है। यह सीन बिहार में इन दिनों चल रहे इंटर परीक्षा देने जाने से पहले का है। अंडरगारमेंट की लेते हैं तलाशी...

     

    - लाइन से अलग कर लोगों की भीड़ के सामने छात्र का पैंट उतरवाया जा रहा है। इसके बाद उसके अंडरगारमेंट में हाथ डालकर तलाशी ली जाती है।
    - ऐसा नहीं है कि यह कड़ाई सिर्फ लड़कों के लिए है। लड़कियों को भी बेहद कड़ी जांच से गुजरना पड़ता है।
    - महिला पुलिस और टीचर लड़कियों के कपड़े चेक कर यह देखती हैं कि किसी ने चीट-पुर्जा तो नहीं छुपाया है। 
    - समस्तीपुर, गया, मुजफ्फरपुर, आरा, छपरा या कोई अन्य जिला कमोबेश हर जगह छात्र-छात्रों को ऐसी ही स्थिति से दो-चार होना पड़ रहा है।
     
     
    तलाशी का फोटो हुआ वायरल
    - पिछले कुछ सालों में इंटर परीक्षा में नकल की फोटो वायरल होने से शर्मसार प्रशासन इस बार पूरे अलर्ट पर है। 
    - परीक्षा हॉल में जाने से पहले होने वाली चेकिंग का एक फोटो इन दिनों सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। यह फोटो जहानाबाद जिले के ऊंटा मिडिल स्कूल का है। 
    - परीक्षा देने आए छात्र का पैंट उतरवा लिया जाता है और उसके अंडरगारमेंट में हाथ डालकर तलाशी ली जाती है।
    - जब छात्र की जांच चल रही थी वहां लड़कियां व महिला पुलिस भी मौजूद थी। यह सीन देख वे शर्मसार हो गईं और अपना सिर झुका लिया।
     
    1275 सेंटरों पर ली जा रही है परीक्षा
    - बिहार बोर्ड की इंटरमीडिएट की परीक्षा 1275 सेंटरों पर ली जा रही है। इसमें 12.61 लाख छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं।
    - बोर्ड की ओर से एग्जाम को कदाचारमुक्त रखने के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

     

  • धनबाद - छोटे से घर के अंदर था मुर्दाघर जैसा नजारा, ऐसे हुआ इस मामले का खुलासा

    धनबाद (झारखंड)।यहां के बाघमारा थाना क्षेत्र के बरोरा में भारत कुकिंग कोल लिमिटेड (बीसीसीएलकर्मी) ओमप्रकाश कुमार ने गुरुवार को अपनी पत्नी और रविवार की रात दो बेटों सहित साली को मार डाला। इस सनसनीखेज वारदात को अंजाम ओमप्रकाश ने अपने घर में ही दिया। इसके बाद खुद गोमो जंक्शन पर चलती ट्रेन की आगे कूद कर अपनी जान दे दी। सोमवार सुबह उसकी लाश रेलवे ट्रैक से बरामद की गई। क्या है मामला...?

     

    -आेमप्रकाश ने चारों को जहर देकर मार डाला। आरोपी ने तीन दिन पूर्व पत्नी की हत्या की और फिर बच्चों के साथ अपने घर में मौजूद रहा। रविवार को जब फुसरो से उसकी साली पहुंची तो उसने उसके साथ अपने दोनों बेटों को भी मार डाला।
    -घटना का खुलासा तब हुआ, जब सुबह से लापता अपनी बहन की तलाश में ओमप्रकाश का साला विनोद नोनिया रविवार की रात लगभग दस बजे बरोरा पहुंचा।
    -उसने अपने जीजा के घर का दरवाजा खटखटाया तो कुंडी ओमप्रकाश ने ही खोली। साले को देखते ही ओमप्रकाश उसे धक्का देकर भाग गया। 
    -इसके बाद विनोद अंदर गया तो पहले कमरे में उसे ओमप्रकाश के दोनों पुत्र पीयूष कुमार (12 साल) और हर्षित कुमार (8 साल) के शव दिखे तो दूसरे कमरे में उनकी बहन सुमन देवी (32), जो ओमप्रकाश की पत्नी थी, की लाश पड़ी थी। 
    -सुमन के ठीक बगल में ही सुबह से लापता उसकी दूसरी बहन नीतू कुमारी (18) का शव औंधे मुंह गिरा पड़ा था। 
    -चारों का शरीर जहर के प्रभाव से गहरा नीला पड़ा हुआ था। यह नजारा देख विनोद ने शोर मचाया तो लोग जुटे। उसके बाद बरोरा पुलिस को इसकी सूचना दी गई।
     
    पड़ोसियों ने बताया कि ओमप्रकाश का अपनी साली से प्रेम प्रसंग था
    -पुलिस शवों को उठाकर बाघमारा स्वास्थ्य केंद्र ले आई। उसके बाद शवों को बरोरा थाना और फिर रात पौने एक बजे पीएमसीएच भेजा गया। 
    -आरोपी ओमप्रकाश ब्लॉक टू क्षेत्र में डंपर ऑपरेटर के पद पर कार्यरत था और लंबे समय से पियोर बरोरा में ही रह रहा था।
    -पुलिस ने ओमप्रकाश के साले विनोद और पड़ोसियों से वारदात को लेकर जानकारियां लीं। कई पड़ोसियों ने बताया कि ओमप्रकाश का अपनी साली से प्रेम प्रसंग था।
     
    ब्यूटी पाॅर्लर जाने की बात कहकर घर से निकली थी साली
    -पुलिस ने जब रात में ओमप्रकाश के आवास का मुआयना किया तो हर कमरे में उल्टियां पसरी हुई थीं। जहां बच्चों के शव मौजूद थे, वहां की उल्टियां ज्यादा पुरानी नहीं थी। 
    -निशान भी चंद घंटे पूर्व के लग रहे थे, परंतु जिस कमरे में सुमन और नीतू के शव थे, वहां दो किस्म की उल्टियों के निशान मिले। 
    -एक सुखी हुई और दूसरी चंद घंटे पूर्व की। इसी के आधार पर पुलिस ने भी अनुमान लगाया कि सुमन की हत्या पहले हुई और नीतू समेत दोनों की रविवार को किसी टाइम पर।
    -ओमप्रकाश की साली नीतू कुमारी का आवास फुसरो में है। नीतू के भाई विनोद नोनिया ने पुलिस को बताया कि उसकी बहन सुबह 10 बजे ब्यूटी पाॅर्लर जाने की बात कहकर घर से निकली थी। शाम तक घर नहीं लौटी तो खोजबीन शुरू हुई। 
    -उसने अपने जीजा ओमप्रकाश को फोन किया तो उसने कहा कि रात 8 बजे तक तुम्हारी बहन घर पहुंच जाएगी।
    -उनकी बात पर शंका हुई तो वह फुसरो से बरोरा के लिए रवाना हो गया। यहां जीजा ने ही दरवाजा खोला। इसके बाद ही पूरा मामला खुला।
     
    चारों की मौत की वजह जहर
    -बाघमारा स्वास्थ्य केंद्र में जब चारों शव जांच के लिए लाए गए तो ओमप्रकाश की पत्नी सुमन देवी की लाश विकृत होने लगी थी। 
    -आरंभिक जांच के बाद केंद्र के चिकित्सक डॉ. आलोक कुमार ने पुलिस को बताया कि सुमन देवी के लाश की स्थिति बता रही है कि इसकी मौत 70 से 75 घंटे पूर्व हुई है, जबकि शेष तीनों की मौतें रविवार दोपहर से शाम के बीच हुई है। 
    -शव को देखकर प्रतीत होता है कि चारों की मौत की वजह जहर खाना है। एक कमरे में पुलिस को खून के छीटें भी मिले हैं। पुलिस को आशंका है कि ओमप्रकाश की साली के साथ मारपीट भी हुई है।
    -इधर, घटनास्थल पर देर रात एसएसपी मनोज रतन चोथे, ग्रामीण एसपी एचपी जनार्दनन, डीएसपी लॉ एंड ऑर्डर डीएन बंका, कतरास इंस्पेक्टर सुषमा कुमारी समेत अन्य अधिकारी पहुंच मुआयना किया।
     
    प्रेम-प्रसंग सहित सभी बिंदुओं की हो रही जांच
    -धनबाद एसएसपी मनोज रतन चोथे ने कहा कि प्रथम दृष्टया बीसीसीएलकर्मी ओमप्रकाश कुमार ही आरोपी प्रतीत हो रहा है।
    -उन्होंने कहा- उसने ही अपनी पत्नी, साली और दोनों बच्चों को जहर देकर मार डाला। जीजा-साली के प्रेम प्रसंग समेत अन्य बिंदु की जांच में शामिल किया गया है।

     

  • अब बचत खाते से हर हफ्ते निकाल सकेंगे अधिकतम 50 हजार

    नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक 8 फरवरी को किए ऐलान के अनुसार आज (20 फरवरी) से बचत खातों से एक हफ्ते में अधिकतम 50 हजार रुपए निकाले जा सकेंगे। आरबीआई के मुताबिक हर हफ्ते अधिकतम 50 हजार निकालने की सीमा 13 मार्च तक लागू रहेगी और उसके बाद सेविंग्स अकाउंट्स से पैसा निकालने की कोई सीमा नहीं होगी।

    8 नवंबर की रात से लागू हुई नोटबंदी के बाद पैदा हुई कैश की किल्लत को देखते हुए आरबीआई ने पैसे की निकासी को लेकर लिमिट लगाई थी। केंद्रीय बैंक ने नकद निकासी की सीमा की कई बार समीक्षा कर उसमें बदलाव किए। चालू खाता, कैश क्रेडिट अकाउंट और ओवरड्राफ्ट अकाउंट से नकद निकासी की सीमाओं को 30 जनवरी को ही खत्म कर दिया गया था।

    अभी तक हफ्ते में बैंकों के बचत खातों में से 24 हजार रुपए ही निकाले जा सकते थे। यह सीमा 20 फरवरी से बढ़ कर 50 हजार हो जाएगी। आरबीआई के मुताबिक बचत खातों की यह सीमा 13 मार्च तक चलेगी। याद रहे कि एटीएम से निकाली गई रकम भी बचत खातों से निकासी में गिनी जाती है।

 
LIVE NEWS
BIG NEWS
 
new scity
KASHISH NEWS PROGRAMMES
kashish News Programmes...
 
 
 
व्यापार
अब बचत खाते से हर हफ्ते निकाल सकेंगे अधिकतम 50 हजार

नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक 8 फरवरी...

बॉलीवुड
सैफ अली खान ने किया कंफर्म, बेटी सारा को लॉन्‍च कर रहे हैं करण जौहर

बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान के बॉलीवुड में डेब्‍यू को लेकर पिछले काफी दिनों से तरह-तरह की अफवाहें सुनने को मिल...

 
खेल जगत
..PICTURE GALLERY
आपकी राय
क्या फरक्का बराज को तोड़ने की मांग सही है ?
 
 
प्रादेशिक
विश्वजगत
 
Facebook Like
जरुर देखें
KASHISH NEWS OTHER SERVICES BE CONECTED   LINKS
© 2017 Kasish News. All rights reserved. Developed By : SAM Softech