ब्रेकिंग न्यूज़  
  • भावुक हुए रामनाथ कोविंद.. याद आई टपकती छत, गरीबी में गुजारे दिन

    नई दिल्ली- देश का राष्ट्रपति चुने जाने के बाद रामनाथ कोविंद की आंखों में बचपन की तस्वीरें तैरने लगीं। गरीबी के वो दिन याद आ गए जब उन्हें और उनके भाई-बहन को बारिश के दिनों में सिर छिपाने के लिए जगह तलाशनी पड़ती थी। राष्ट्रपति चुने जाने के बाद भावुक हुए रामनाथ कोविंद ने क्या-क्या कहा जानिए उन्हीं की जुबानी...

    'आज दिल्ली में सुबह से बारिश हो रही है। बारिश का यह मौसम मुझे बचपन के उन दिनों की याद दिलाता है जब मैं अपने पैतृक गांव में रहा करता था। घर कच्चा था, मिट्टी की दीवारे थीं, तेज बारिश के समय फूस की बनी छत पानी रोक नहीं पाती थी। हम सब भाई-बहन कमरे की दीवार के सहारे खड़े होकर इंतजार करते थे कि बारिश कब समाप्त हो।'

    'आज देश में ऐसे कितने ही रामनाथ कोविंद होंगे.. जो इस समय बारिश में भीग रहे होंगे.. कहीं खेती कर रहे होंगे.. कहीं मजदूरी कर रहे होंगे। शाम को भोजन मिल जाए इसके लिए पसीना बहा रहे होंगे। आज मुझे उनसे कहना है कि परौंख गांव का रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति भवन में उन्हीं का प्रतिनिधि बनकर जा रहा है।'

    'मुझे यह जिम्मेदारी दिया जाना, देश के ऐसे हर व्यक्ति के लिए संदेश भी है जो ईमानदारी और प्रमाणिकता के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करता है। इस पद पर चुना जाना न कभी मैंने सोचा था और न कभी मेरा लक्ष्य था, लेकिन अपने समाज के लिए, अपने देश के लिए अथक सेवा भाव आज मुझे यहां तक ले आया है। यही सेवा भाव हमारे देश की परंपरा भी है।'

    'जिस पद का मान डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रणब मुखर्जी जैसे महान विद्वानों ने बढ़ाया है, उस पद के लिए मेरा चयन मेरी लिए बहुत बड़ी जिम्मेदारी का अहसास करा रहा है। व्यक्तिगत रूप से यह मेरे लिए बहुत ही भावुक क्षण है।'

  • रायसीना में रामनाथ: देश के 14वें राष्ट्रपति होंगे कोविंद, 66% मिले वोट

    नई दिल्ली- रामनाथ कोविंद देश के अगले राष्ट्रपति होंगे। एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने यूपीए की प्रत्याशी मीरा कुमार को लगभग 3 लाख 34 हजार वोटों के अंतर से हराया। कोविंद को 65.65 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। जबकि मीरा कुमार को 35.34 फीसदी वोट मिले। कोविंद देश के 14वें राष्ट्रपति होंगे। कोविंद की जीत के बाद पीएम मोदी ने उनसे मिलकर बधाई दी। पीएम मोदी के साथ अमित शाह और अनंत कुमार भी मौजूद रहे।

    राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद रामनाथ कोविंद मीडिया से मुखातिब हुए। कोविंद ने जीत के बाद कहा कि यह मेरे लिए भावुक पल है। उन्होंने कहा 'यह मेरे लिए भावुक क्षण हैं। मैं विश्वास दिलाता हूं कि सर्वे भवंतु सुखिनः के भाव के साथ निरंतर लगा रहूंगा। यह भारतीय परंपरा की महानता का प्रतीक है। मुझे यह जिम्मेदारी दिया जाना उस हर व्यक्ति के लिए उदाहरण है जो ईमानदारी से मेहनत करता है।' कोविंद ने यूपीए उम्मीदवार मीरा कुमार को शुभकामनाएं भी दी। 

     

    वहीं मीरा कुमार ने रामनाथ कोविंद को जीत की बधाई देते हुए कहा 'मैं कोविंद जी को शुभकामनाएं देना चाहती हूं कि वह चुनौतीपूर्ण समय में संविधान का गरिमा को बनाए रखें। जिस विचारधारा की लड़ाई के लिए मैं आगे आई थी वह आज खत्म नहीं हुई है। आप सबने हमेशा साथ दिया है, आप सबको धन्यवाद।'

  • बिहार: RJD पर भड़का JDU, बोला- भाई वीरेंद्र पर कार्रवाई करें लालू

    पटना - बिहार में महागठबंधन सरकार में जारी सियासी खींचतान के बीच गुरुवार को राजद एमएलए भाई वीरेंद्र ने बड़ा बयान दिया। उन्‍होंने कहा कि राजद के पास 80 एमएलए हैं, इसलिए वह जो चाहेगा वही होगा। कहा कि डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी किसी के कहने से इस्तीफा नहीं दे देंगे। इसपर जदयू प्रवक्‍ता अजय आलोक ने पलटवार करते हुए बयान को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया तथा राजद से कार्रवाई की मांग की।

    जदयू प्रवक्‍ता अजय आलोक ने कहा कि भाई बीरेंद का बयान महागठबंधन के लिए खतरनाक है। इसके लिए राजद सुप्रीमाे उनपर कार्रवाई करें। कहा कि राजद विधायकों की संख्या गिनाने से कुछ नहीं होगा। 
    भाई वीरेंद्र ने ये कहा

    विदित हो कि मीडिया से बातचीत में भाई वीरेंद्र ने कहा कि वो तेजस्वी को कभी इस्तीफा नहीं देने देंगे। एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा कि राजद दूसरे की सलाह पर नहीं चलता। पार्टी तय करेगी कि क्या करना है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे नेता लालू हैं और वे जो कहेंगे वही होगा। भाई वीरेंद्र ने इसी दौरान यह भी कह दिया कि राजद के पास महागइबंधन में सर्वाधिक 80 ण्‍मण्‍लए हैं, इसलिए उनकी ही बात चलेगी। 
    यह है मामला 
    बता दें कि बीते श्‍ुाक्रवार सीबीआइ ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के ठिकानाें पर छोपमारी की थी। इस सिलसिले में सीबीआइ ने लालू-राबड़ी व डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी सहित अन्‍य कई के खिलाफ एफआइआर दर्ज की। तेजस्वी पर एफआइआर के बाद विपक्ष उनपर इस्‍तीफा का दबाव बना रहा है तो जदयू ने भी उन्‍हें अपना पक्ष रख खुद को निर्दोष साबित करने को कहा है। उधर, राजद इस बात पर अड़ा है कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे।

  • राजद नेता का बड़ा बयान, कहा- हमारे पास 80 MLA, हम जो कहेंगे वही होगा

    पटना - बिहार में महागठबंधन में चल रही सियासी खींचतान के बीच मनेर विधानसभा क्षेत्र से राजद विधायक भाई वीरेंद्र ने एक बड़ा बयान दिया है। गुरुवार को उन्होंने मीडिया के सामने कहा कि हमारे पास 80 विधायक हैं और जो हम चाहेंगे वही होगा। किसी के कह देने भर से तेजस्वी इस्तीफा नहीं दे देंगे। 

    मीडिया से बातचीत में भाई वीरेंद्र ने कहा कि वो तेजस्वी को कभी इस्तीफा नहीं देने देंगे। एक सवाल के जवाब में विधायक ने कहा कि हमारा दल दूसरे की सलाह पर नहीं चलता, पार्टी तय करेगी कि हमें क्या करना है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे नेता लालू हैं और वो जो कहेंगे वही होगा।

     

    बता दें कि एक ओर जहां लालू-राबड़ी के घर पर सीबीआइ की रेड पड़ी सीबीआइ ने रेल होटल घोटाला मामले में लालू, राबड़ी और तेजस्वी पर एफआइआर दर्ज करायी है, तेजस्वी पर हुए एफआइआर के बाद जहां जदयू नेता तेजस्वी पर इस्तीफे के लिए दबाव बना रहे है वहीं राजद नेता इस बात पर अड़े है कि तेजस्वी इस्तीफा नहीं देंगे।

    इस मुद्दे को लेकर राजद और जदयू नेताओं के बीच जुबानी जंग जारी है। दोनों दल के नेता किसी हाल में झुकने वाले नहीं हैं। 

    उपमुख्यमंत्री तेजस्वी पर किए गए एफआइआर के बाद काफी मंथन चला उसके बाद नीतीश कुमार ने पार्टी नेताओं से मंत्रणा कर यह फैसला लिया कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को इस मामले पर खुद ही विचार करना चाहिए और जनता के सामने साक्ष्य प्रस्तुत करना चाहिए। इसके लिए जदयू ने तेजस्वी को अल्टीमेटम दिया है।

    वहीं राजद नेता अड़े हुए हैं कि तेजस्वी यादव इस्तीफा किसी हाल में नहीं देंगे। वो अपने पद पर रहेंगे और बिहार के लिए काम करेंगे। इस मुद्दे को लेकर राजनीतिक गलियारे में काफी हलचल मची हुई है।

  • आइएएस वंदना को सरकार ने दी चेतावनी, आवेदन नामंजूर

     रांची- राज्य सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा की 1996 बैच की अधिकारी वंदना दादेल को निर्देश दिया है कि वे तत्काल हजारीबाग के प्रमंडलीय आयुक्त के पद पर योगदान दें। उनका शिशु देखभाल अवकाश राज्य सरकार ने अस्वीकृत कर दिया है।

    कार्मिक विभाग द्वारा जारी की गई नोटिस में उल्लेख है कि योगदान देने के लिए उन्हें अंतिम मौका दिया जा रहा है। इसके बाद उनके खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई की जा सकती है। वंदना दादेल को प्रमंडलीय आयुक्त, उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल, हजारीबाग पद पर 13 जून को स्थानांतरित किया गया था। अधिसूचना जारी होने के 28 दिन के बाद भी उन्होंने पदभार ग्रहण नहीं किया है।

    हजारीबाग आयुक्त के पद पर स्थानांतरण के बाद वंदना दादेल ने 15 जून को का दिनांक 13.06.2017 को ट्रांसफर रद करने का आवेदन दिया। राज्य सरकार ने आवेदन की समीक्षा करने के बाद 24 जून को इसे नामंजूर कर दिया।

 
LIVE NEWS
BIG NEWS
 
new scity
KASHISH NEWS PROGRAMMES
kashish News Programmes...
 
 
 
व्यापार
SBI चीफ अरुंधति भट्टाचार्य की सैलरी जानते हैं आप? उनका वेतन सुन चौंक जाएंगे

नई दिल्ली: दुनिया के 50 सबसे बड़े बैंकों में शामिल और देश...

बॉलीवुड
एक हसीना थी, एक दीवाना था फील्म रिव्यू रामनरेश चौरसिया द्वारा

 

------------------

एक हसीना थी, एक दीवाना था

(नोटः फिल्म की तस्वीरें यू-ट्यूब से ले लेंगे)

सिनेमा का कल्चर बदलते वक्त के साथ...

 
खेल जगत
..PICTURE GALLERY
आपकी राय
क्या निखिल प्रियदर्शी को बचा रही है पुलिस ?
 
 
प्रादेशिक
विश्वजगत
 
परमाणु हथियार पर रोक:122 देशों ने संधि स्वीकारी, भारत के साथ चीन, अमेरिका और पाक ने किया बहिष्कार
 
Facebook Like
जरुर देखें
KASHISH NEWS OTHER SERVICES BE CONECTED   LINKS
© 2017 Kasish News. All rights reserved. Developed By : SAM Softech