ब्रेकिंग न्यूज़  
  • NSG: भारत के प्रवेश पर चीन ने फिर लगाया अड़ंगा

    पेइचिंग
    चीन ने शुक्रवार को कहा कि वह भारत के परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) में दाखिल होने का विरोध करेगा। चीन ने यह बात एक बार तब फिर दोहराई है जब एनएसजी का पूर्ण सत्र बर्न में जारी है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा, 'जहां तक गैर-एनपीटी (परमाणु अप्रसार समझौता) देशों की बात है, तो मैं आपसे कह सकता हूं कि चीन के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है।' 

    पिछले साल सियोल में NSG के पूर्ण सत्र के दौरान 48 सदस्यीय एनएसजी में प्रवेश के लिए भारत के आवेदन का चीन ने विरोध किया था। पूर्ण सत्र शुक्रवार को समाप्त हो रहा है। बर्न में पेइचिंग से भारत के NSG में प्रवेश को लेकर जो उम्मीद की जा रही है, उससे नई दिल्ली को एक साल का और इंतजार करना पड़ेगा। वैश्विक स्तर पर परमाणु व्यापार पर नियंत्रण के लिए NSG सर्वसम्मति के सिद्धांत पर कार्य करता है। 

    गेंग ने कहा, 'मैं इस ओर ध्यान दिलाना चाहता हूं कि विस्तार को लेकर NSG के नियम स्पष्ट हैं और सियोल में पूर्ण सत्र के दौरान यह स्पष्ट कर दिया गया था कि मुद्दे से किस प्रकार निपटना है। हमें इन नियमों तथा सहमति से कार्य करने की जरूरत है।' उन्होंने कहा, 'नए सदस्यों को एनएसजी में शामिल करने को लेकर स्विट्जरलैंड में जारी यह पूर्ण बैठक सियोल के पूर्ण सत्र के फैसले का पालन करेगा और सर्वसम्मति पर फैसले के सिद्धांत को बरकार रखेगा। समूह में गैर-एनपीटी देशों को शामिल करने के लिए तकनीकी, कानूनी जैसे विभिन्न पहलुओं पर चर्चा जारी रखेगा।' बर्न की यह बैठक तब और महत्वपूर्ण हो गई है जब एससीओ शिखर सम्मेलन से इतर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एनएसजी में भारत की एंट्री पर अपने चीनी समकक्ष से बात की थी। 

  • उत्तर कोरिया ने किया एक और नए रॉकेट का परिक्षण

    भारी तनातनी के बीच उत्तर कोरिया ने रॉकेट इंजन का परीक्षण किया है. अमरीका ने दावा किया है कि उत्तर कोरिया ने एक नए रॉकेट इंजन का परिक्षण किया है जो कि अमरीका तक पहुंचने वाली मिसाइल बनाने वाले प्रोजेक्ट का हिस्सा है. इससे पहले अमेरिका चीन के द्वारा उत्तर कोरिया पर दबाव बनाए रखने की अपील करता रहा है.

    यह खबर एक ऐसे समय में आई है जब दोनों देशों के बीच उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर तनाव जारी है. ट्रंप प्रशासन लगातार उत्तर कोरिया के ऐसे कार्यक्रमों का विरोध करता रहा है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय निंदा के बावजूद उत्तर कोरिया ने अपनी मिसाइल परीक्षण बढ़ा दिए हैं जिसका उद्देश्य अंतर महाद्वीपीय परमाणु मिसाइल बनाना है.

    अमरीकी अधिकारियों ने नाम ना बताने की शर्त पर कई एजेंसियों को बताया है कि ये उत्तर कोरिया की आईसीबीएम यानी अंतरमहाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल का एक चरण हो सकता है.

    उत्तर कोरिया के खुफ़िया मिलिट्री ऑपरेशन की वजह से विशेषज्ञों के लिए ये पता लगना मुश्किल है कि ये देश आईसीबीएम बनाने से कितनी दूर है.

    फिलहाल, उत्तर कोरिया की मिसाइलें दक्षिण कोरिया और जापान तक पहुंच सकती हैं और दोनों देशों में अमरीकी सेना की मौजूदगी है.

  • अमेरिकी थिंक टैंक ने खोला राज, बताया अमेरिका के लिए क्यों ‘बेहद अहम’ है भारत

    अमेरिका के एक शीर्ष थिंक टैंक ने कहा है कि ट्रम्प प्रशासन जहां चीनियों के साथ घनिष्ठता बढ़ा रही है वहीं दुनिया में चीन के बढ़ते प्रभाव पर अंकुश लगाने के लिये उसे भारत की जरूरत होगी। अमेरिका के लिये भारत को बेहद अहम बताते हुए ‘अटलांटिक काउंसिल’ ने ट्रम्प प्रशासन से भारत के साथ अपने रिश्तों को प्राथमिकता देने की अपील की।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से पहले अमेरिका के शीर्ष थिंक टैंक ‘अटलांटिक काउंसिल’ ने अपने नीति पत्र ‘ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया फ्रॉम ए बैलेंसिंग टू लीडिंग पावर’ में कहा, ‘‘चीन ने आर्थिक एवं सैन्य दोनों मोर्चों पर प्रगति की है, इस बात को देखते हुए अमेरिका को अपने वैश्विक एवं क्षेत्रीय प्रभुत्व सुनिश्चित करने के लिये वहां अपने संसाधन लगाने की आवश्यकता है।’’

    नीति पत्र को पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी और साउथ एशिया सेंटर ऑफ द अटलांटिक काउंसिल के निदेशक भारत गोपालस्वामी ने संयुक्त रूप से लिखा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी और साउथ एशिया सेंटर ऑफ द अटलांटिक काउंसिल के निदेशक भारत गोपालस्वामी द्वारा संयुक्त रूप से लिखे गये नीति पत्र में कहा गया है, ‘‘ट्रंप ने अब तक चीन के साथ जहां मेल-मिलाप का ही पक्ष लिया है, वहीं भारत-अमेरिका रिश्तों को मजबूत बनाये रखने के लिये वांशिगटन की तरफ से और पहल और प्रयास किये जाने की जरूरत होगी। अमेरिका का भारत के प्रति इरादा दिखाने के लिये सिनेटर जॉन मैक्केन द्वारा प्रस्तावित एशिया-प्रशांत स्थायित्व पहल एक प्रभावी तरीका हो सकता है। ’’

  • राष्ट्रपति चुनावः नीतीश बोले- क्या बिहार की बेटी का चयन हारने के लिए किया गया है?

    नीतीश ने राष्ट्रपति चुनाव में यूपीए उम्मीदवार मीरा कुमार को सपोर्ट न करने पर हो रही आलोचनाओं को जवाब दिया है. उन्होंने कहा- बिहार की बेटी माननीय मीरा कुमार के प्रति बहुत सम्मान है. बिहार की बेटी होने से मुझे भी बहुत गर्व की अनुभूति होती है. मंत्री और स्पीकर रहते हुए उन्होंने अच्छा काम किया. बता दें कि बिहार में उनके साथ लालू प्रसाद ने उन्हें अपने फैसले पर विचार करने की सलाह दी थी. नीतीश शुक्रवार शाम लालू के साथ इफ्तार पार्टी में पहुंचे थे.

    2019 में जीतने की तैयारी करनी चाहिए
    नीतीश ने कहा कि 2019 की रणनीति बनानी चाहिए, ये तो तात्कालिक हार की है. बिहार की बेटी का चयन हारने के लिए किया गया? उनके प्रति सम्मान था, दो बार अवसर मिले तब तो बिहार की बेटी याद नहीं आई. मेरी समझ से फिर से पुर्नविचार करना चाहिए. 2019 जीत की रणनीति बनाई और 2022 में बिहार की बेटी को राष्ट्रपति बनाइए.

    क्यों किया सपोर्ट?
    नीतीश ने कहा- हमने पार्टी के अंदर खुले तौर पर गौर किया. हर पहलू को गौर कर ये निर्णय लिया. ये फैसला राष्ट्रपति चुनाव के लिए है. हम जब एनडीए में भी थे, जब प्रणब बाबू और अंसारी के खिलाफ बयान हुए थे तो हमने बीजेपी का ऐतराज किया था. राष्ट्रपति का पद मुकाबले का पद नहीं है.

    ये बिहार की बेटी वाली बात तो ऐसे ही है कि सब किसी को पता है. उनका चयन हारने के लिए किया है. बिहार की बेटी को आप हारने लायक समझ रहे हैं. जीतने के समय चयन कीजिए. इन बातों को कोई बहुत असर नहीं होने वाला. जब भी कोई चुनाव होता है, लोग अपनी अपनी बात रखेंगे.

    रामनाथ कोविंद का नाम पहले घोषित किया गया, सत्ता पक्ष की ओर से. हमें ऐतराज नहीं है, इसलिए समर्थन किया.

    बिहार में महागठबंधन पर क्या कहा?
    सब लोग अपनी राय रखने के लिए आजाद हैं. जहां तक सवाल है बिहार के महागठबंधन का तो यह कोई मुद्दा है ही नहीं. यह तो पार्टी को निर्णय लेना है. विपक्ष की एकता तो जरूर करनी चाहिए और 2019 की रणनीति बनाइए.

  • स्मार्ट सिटी की नई लिस्ट: क्या इन 90 शहरों में है आपका शहर?

    नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने शुक्रवार को ‘स्मार्ट सिटी’ के रूप में विकसित करने के लिए 30 नए शहरों की लिस्ट जारी की, जिसमें तिरुवनंतपुरम शीर्ष पर है. इस नई लिस्ट में 12 राज्यों की राजधानियां भी शामिल हैं. स्मार्ट सिटी के लिए चुने गए शहरों की संख्या बढ़कर अब 90 हो गई है.

    इस लिस्ट में केरल की राजधानी के बाद छत्तीसगढ़ की नई राजधानी नया रायपुर का नाम है. जम्मू एवं कश्मीर की सर्दी और गर्मी की राजधानी जम्मू और श्रीनगर को भी इस लिस्ट में स्थान दिया गया है.

    अन्य राजधानियों में अमरावती (आंध्र प्रदेश), पटना (बिहार), बेंगलुरू (कर्नाटक), शिमला (हिमाचल प्रदेश), देहरादून (उत्तराखंड), आइजोल (मिजोरम), गंगटोक (सिक्किम) और गांधीनगर (गुजरात) शामिल है.

    शहरी विकास व आवास मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने यहां स्मार्ट सिटी की नई लिस्ट की घोषणा करते हुए कहा, “40 स्मार्ट सिटी की लिस्ट में स्थान पाने के लिए 45 शहरों ने दावेदारी पेश की थी, लेकिन उनमें से केवल 30 का ही चयन किया गया, क्योंकि उनके पास ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आकांक्षा के अनुरूप व्यवहार्य और व्यावहारिक योजनाएं पाई गईं.”

    केंद्र सरकार ने स्मार्ट सिटी मिशन को साल 2015 में ही 25 जून को लागू किया था, जिसके तहत साल 2020 तक 100 स्मार्ट सिटी का निर्माण किया जाएगा. हालांकि सरकार इस लिस्ट में कुल 40 शहरों के नाम की घोषणा करनेवाली थी, लेकिन पश्चिम बंगाल ने इसमें भाग नहीं लिया, इसलिए नामों की संख्या घटकर 30 रह गई.

    इसके अलावा कई शहरों की नगरपालिकाएं तो न्यूनतम अहर्ता प्राप्त करने में भी असफल साबित हुईं.

    नायडू ने कहा, “जो 30 शहरों की लिस्ट जारी की गई है, वहां कुल 57,393 करोड़ रुपये का निवेश किया गया जाएगा, जिसमें से 46,879 करोड़ रुपये का निवेश कोर अवसंचरना में किया जाएगा, जिसका चयन वहां के नागरिक करेंगे. जबकि 10,514 करोड़ रुपये का निवेश तकनीक आधारित समाधानों, सर्विस डिलिवरी और अवसंचचना तथा बुनियादी सुविधाओं के उपयोग पर किया जाएगा.”

    इन सभी को मिलाकर कुल 90 स्मार्टसिटीज में कुल 1,91,155 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा.

 
LIVE NEWS
 
new scity
KASHISH NEWS PROGRAMMES
kashish News Programmes...
 
 
 
व्यापार
GST पर है कंफ्यूजन तो इस नंबर पर करें कॉल, मिलेगा हल

जीएसटी के लिए आईटी बुनियादी ढांचा उपलब्ध...

बॉलीवुड
दूसरी शादी की तैयारी में करिश्मा, तलाक के बाद बॉयफ्रेंड करेंगे प्रपोज

बॉलीवुड में अपनी एक्टिंग से लोगों के दिल जीतने वाली एक्ट्रेस करिश्मा कपूर अब अपनी असल जिदंगी...

 
 
प्रादेशिक
विश्वजगत
 
Facebook Like
जरुर देखें
KASHISH NEWS OTHER SERVICES BE CONECTED   LINKS
© 2017 Kasish News. All rights reserved. Developed By : SAM Softech